Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu
Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu

राष्ट्रीय आय एवं योग्यता आधारित छात्रवृत्ति परीक्षा में कछौना ने फिर लहराया परचम

कछौना- हरदोई, 23 जुलाई 2022 (यू.टी.एन.)। ब्लॉक कछौना के शिक्षकों ने राष्ट्रीय आय एवं योग्यता आधारित छात्रों के लिए विशेष अभियान चलाया था। जिसके परिणाम स्वरूप कछौना ब्लॉक के सर्वाधिक 87 बच्चे इस छात्रवृत्ति परीक्षा को पास करने में सफल रहे। बेसिक में उप्रावि शाहपुर बिनौरा के अध्यापक नीतेश कुमार के प्रयास के कारण विकास क्षेत्र हरियावां ने 22 बच्चों को पास कराकर दुसरा स्थान पाया। राष्ट्रीय आय एवं योग्यता आधारित छात्रवृत्ति परीक्षा वर्ष में जिले का लक्ष्य 321 का है। जिसमें 999 आवेदन किए गए थे। कुल 233 परीक्षार्थी सफल रहे। जिसमें कछौना के 87 बच्चे हैं। कछौना की कंपोजिट विद्यालय की छात्रा प्रीती पुत्री तुलसीराम, निवासी भारतखेड़ा टॉपर रहीं। 
पूर्व खंड शिक्षा अधिकारी मनोज बोस व उनके शिक्षकों की टीम के विशेष प्रयास के परिणामस्वरुप विगत तीन साल से जिले म़े सर्वाधिक सफलता इसी ब्लाक के बच्चों को मिलती है। पिछले साल भी सर्वाधिक  पचास बच्चे इस परीक्षा को पास करने में सफल रहे थे। फार्म के साथ आवश्यक अभिलेख आय प्रमाण पत्र, अनुसूचित जाति व जनजाति के लिए जाति प्रमाण पत्र की आवश्यकता होती है। जिसमें लगभग एक माह का समय लग जाता है। यहाँ के सभी उच्च प्राथमिक विद्यालयों में संबंधित बच्चों की जुलाई 2021 से ही कोचिंग  की व्यवस्था कराई गयी थी।
खंड शिक्षा अधिकारी मनोज कुमार बोस ने पूरे प्रदेश में इस मुहिम को चलाया है। जिससे उप्र छः गुणा ज्यादा फार्म भरा गया और  चयन ढाई गुणा बढ़कर साढ़े छः  हजार हो गया है। इस परीक्षा को पास होने वाले बच्चों को कक्षा 9 से 12 के बीच कुछ 1000₹/माह कुल 48000₹ मिलता है। जिससे आर्थिक रूप से कमजोर छात्रों की पढ़ाई आर्थिक कारण से बीच में न छूटे। यह अभियान में अन्य राज्यों बिहार, मध्य प्रदेश, झारखंड, छत्तीसगढ़ में भी चला रहे हैं। इस अभियान में मेहनती जनूनी शिक्षक साथी शैलेंद्र कुमार शंख धर, संतोष खरे कंधे से कंधा मिलाकर नया आयाम दिया। 
मनोज बोस के आग्रह पर उप्र सरकार के कॉलेज ऑफ टीचर एडुकेशन के प्राचार्य श्री अजय सिंह जी  ने इसे और विस्तृत रूप देकर  इसे मिशन 2500के का नाम दिया गया। अब  इस अभियान का लक्ष्य 2.5 लाख फार्म भरवाकर 15143 बच्चों  का चयन हर साल इस छात्रवृत्ति  हेतु कराना है। इससे न केवल हर साल 15143 कमजोर बच्चों को छात्रवृत्ति मिलेगी, बल्कि हर साल ढाई लाख फार्म भरने वाले बच्चों की शिक्षा की गुणवत्ता में क्रांतिकारी बदलाव आयेगा। कछौना में इस परीक्षा की तैयारी के लिए परिषदीय स्कूलों में अवकाश के दिन रविवार को स्कूल खोलकर तैयारी कराई गई थी, क्योंकि लक्ष्य के बहुत कम परीक्षार्थी आवेदन करते थे।
इस परीक्षा में उत्तीर्ण होने वाले छात्रों को आगे की पढ़ाई हेतु कक्षा 9 से कक्षा 12 तक की पढ़ाई के लिए एक हजार रुपये मासिक छात्रवृत्ति मिलती है। इस परीक्षा में सभी राज्यों और जिलों के लिए सीटें निर्धारित हैं। संपूर्ण भारत के लिए एक साल एक लाख बच्चों को पास कराया जाता है। इसमें शिक्षकों के रुचि न लेने व जागरूकता के अभाव में बड़े पैमाने पर छात्र प्रतिभाग करने व अच्छी तैयारी के अभाव में हजारों छात्र छात्रवृत्ति से वंचित हो जाते हैं। खंड शिक्षा अधिकारी मनोज कुमार बोस के नवाचार से सैकड़ों छात्रों को लाभ मिल रहा है।
रिपोर्ट – प्रशांत सिंह’शिवम’|

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

क्या आपको लगता है कि बॉलीवुड ड्रग्स केस में और भी कई बड़े सितारों के नाम सामने आएंगे?

View Results

Loading ... Loading ...

आज का राशिफल देखें 

[avatar]