Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu
Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu

*रज गीत*

*रज गीत*

        ——————-
यह रज है, रज आज यहाँ है
   जंगल में बुला रहा है हाथी
आज फिर वो साल आ गया,
   जब राज बाउल तैयार साथी ll
साबुज बनानी आज गा रहे हैं
  राजडोली मैं कटमाटी
भाई विदेश यात्रा पर गया,
    तो भाभी हूए परेशान
रज पान भारी वह मीठा हे बाउल,
     मेरी सुनहरी बहन का मन
जैसे खाने के लिए राज केक,
     फली काकरा आदि छैना ll
रज तीन दिन की मस्ती होगी,
   बाउल हूए बहु साज सजा
गांव बन गया उत्सव का चेहरा,
  डोलि साथ खेलने आयेगा मजा ll
लड़की पैरों में पहने हैं लाल अलता
     सिर के माध्यम से चंदन
बाउल गले से गजरा माला
     जल्दी आना हूए पुकारन ll
     *त्रिनाथ पटनायक*
*(प्रोफेसर और कवि)*
 *ग्राम: शिक्षक कॉलोनी, गांधी नगर*
*पो: जिला-कोरापुट*

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

क्या आपको लगता है कि बॉलीवुड ड्रग्स केस में और भी कई बड़े सितारों के नाम सामने आएंगे?

View Results

Loading ... Loading ...

आज का राशिफल देखें 

[avatar]