Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu
Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu

सर्व पुराणों में शिरमौर मणि हैं श्रीमद्भागवत – अनूप ठाकुर महाराज

हरदोई,10 जून 2022 (यू.टी.एन.)।  ग्राम सैतियापुर में प्रारंभ हुई श्रीमद्भागवत कथा के प्रथम दिवस में  असलापुर धाम से पधारें सुप्रसिद्ध कथावाचक अनूप ठाकुर महाराज ने श्रीमद्भागवत की महिमा सुनाते हुए कहा कि श्रीमद्भागवत पुराणों का मुकुट मणि हैं इसमें साक्षात श्रीकृष्ण विराजमान हैं जहां कहीं भी श्रीमद्भागवत कथा का अनुष्ठान होता है वह स्थान एक तीर्थ बन जाता है जहां देवी देवता भी अप्रत्यक्ष रूप से कथा श्रवण करने आते हैं, इसलिए जहां कहीं भी श्रीमद्भागवत कथा का अनुष्ठान हो वहां भगवत श्रवणार्थ अवश्य जाना चाहिए!
इसी के साथ कथावाचक अनूप ठाकुर महाराज ने भक्ति ज्ञान वैराग्य की कथा के साथ साथ आत्म देव धुंधली और धुंधकारी की कथा को विस्तार से सुनाया, उन्होंने बताया कि आत्मदेव जोकि एक वेद पाठी ब्राह्मण थे, बड़े ही विद्वान थे, लेकिन उनके यहां कोई पुत्र नहीं था। वह ग्लानि से भरे हुए एक दिन जंगल में जा पहुंचे। वहां उन्हें एक साधु के दर्शन हुए। साधु ने उन्हें एक फल दिया। आत्मदेव की पत्नी धुंधली ने वह फल अपनी गाय को खिला दिया। कुछ समय बाद गाय ने एक बच्चे को जन्म दिया। उसका पूरा शरीर मनुष्य का था, केवल कान गाय के थे जिसका नाम गोकर्ण रखा गया। एक धुंधली का पुत्र जोकि उसकी बहन का था, का नाम धुंधकारी रखा गया।
अनूप ठाकुर महाराज ने बताया कि साधु के आशीर्वाद से जो पुत्र हुआ वह ज्ञानी धर्मात्मा हुआ और धुंधकारी दुराचारी, व्यभिचारी निकला। व्यसन में पड़कर चोरी करने लगा। एक दिन लोभ में आकर इसकी हत्या कर दी। बाद में यह प्रेत बना, जिसकी मुक्ति के लिए गोकर्ण महाराज जी ने भागवत कथा का आयोजन किया। भागवत कथा सुनकर धुंधकारी को मोक्ष की प्राप्ति और प्रेत योनि से मुक्ति मिली। कथा श्रवणार्थ आयोजक  आदि बड़ी संख्या में श्रद्धालु मौजूद रहें!
स्टेट ब्यूरो (तेजस्वी प्रताप सिंह) |

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

क्या आपको लगता है कि बॉलीवुड ड्रग्स केस में और भी कई बड़े सितारों के नाम सामने आएंगे?

View Results

Loading ... Loading ...

आज का राशिफल देखें 

[avatar]