Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu
Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu

मेरे दिल के राज

मेरे दिल के राज, मेरी जिंदगी का ताना बाना
पूरा तो मैने भी ना जाना
तो तुम्हें कैसे बताऊँ कि कब हुआ मेरे सपनों के नगरी में तुम्हारा आना जाना.
तुम्हारे प्यार का सुकून तुम्हारे प्यार की मस्त मदहोशी
मेरे हिस्से की ख़ामोशी, मेरे हिस्से की मदहोशी
क्या पूरा पूरा जी पाई? या फिर टुकड़ों में?
पहले तो खुशियाँ दिमाग में समाई
और फिर बाद में मेरे अस्तित्व को तोड़ती रुदन के आंधी आई.
तुझे दास्तां सुनाऊंगा जब पास बैठोगे कभी,
ये राजे दिल दिखाऊंगा जब पास बैठोगे कभी.
राजे दिल सब बताना चाहता हूँ,
एक ग़ज़ल तुझ पर सुनाना चाहता हूँ अभी.
पर देखो…मैं आज भी खड़ी हूँ — आखिर कर लिया खुद को साकार
इस दुनिया में परमात्मा ही तो है चिरंतन और निराकार
बस मना लिया खुद को…
कि मैं भी हूँ उसी का शाश्वत आकार…
तो फिर जिन्दगी के हादसों से कैसी तकरार?
इतना प्यार करुँ सबसे इस परमात्मा की सृष्टी में
कि बस घायल हों जाऊं…… और ख़ुशी ख़ुशी कुर्बान
ताकी ला सकूँ सबके चेहरे पर एक तृप्त मुस्कान
बनाऊं मुहब्बत की पराकाष्टा की समाधी
और बस एक जुट हों जाऊं उसमें तल्लीन
जिस तरह थी कृष्ण के होठों पर बीन
          *श्रीमन त्रिनाथ पटनायक*
*(अध्यापक तथा कबी)*
*ग्राम – गांधी नगर, शिक्षक कलोनी*
*पो:/ जिला- कोरापुट*
*उड़ीसा*

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

क्या आपको लगता है कि बॉलीवुड ड्रग्स केस में और भी कई बड़े सितारों के नाम सामने आएंगे?

View Results

Loading ... Loading ...

आज का राशिफल देखें 

[avatar]