Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu
Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu

झोलाछापों पर शिकंजा कसे बिना नही रुक सकता नवजात शिशुओं की मौत का सिलसिला

हरदोई, 24 मई 2022 (यू.टी.एन.)। नगर सहित ग्रामीण क्षेत्रों में झोलाछाप और अपंजीकृत डॉक्टरों का काकस आमजनमानस ही नही नवजात शिशुओं के लिए भी अभिशाप बनकर रह गया है। ऐसा ही शर्मसार करने बाला नजारा शुक्रवार की सुबह शाहाबाद थानाक्षेत्र दरियापुर बिक्कू मोड़ के पास देखने को मिला जहाँ एक कलयुगी माँ ने ममता को शर्मसार करते हुए नवजात को छोड़कर फरार हो गई। रोड किनारे नवजात का शव पड़े होने की स्थानीय लोगों/राहगीरों को जानकारी होने उन्होंने इसकी सूचना पुलिस को दी, मौके पर पुलिस ने पहुंचकर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। शाहाबाद में इससे पूर्व भी कई नवजात के शव मिल चुके हैं। सूत्रों की माने तो शाहाबाद में बड़े स्तर पर झोलाछाप बिना डिग्री के डॉक्टर मोटी रकम लेकर गर्भपात जैसे कारनामो के लिए प्रसिद्ध हैं।
शाहाबाद कस्बे के अल्लाहपुर तिराहे से पाली रोड, बेझा चौराहा, खेड़ा तिराहा, महुआटोला चुंगी, महमंद, सिनेमा चौराहा तथा मीराबस्ती आदि में लगभग हर नुक्कड़-चौराहे तिराहे सहित ग्रामीण क्षेत्रों में ऐसे झोलाछाप डॉक्टरों की भरमार है। जो लगातार लोगों की जान से खिलवाड़ कर रहे हैं। अधिकांश  झोलाछाप डॉक्टर खुद को डॉक्टर बताते हुये सामान्य टेबलेट और इंजेक्शन के जरिये अपना कारोबार संचालित कर रहे हैं। यह झोलाछाप ऐसे लोगों को भी अपने भर्ती कर लेते हैं जो इन्हें नही करना चाहिए। यह लोग प्रसव वाली महिलाओं को भी भर्ती कर प्रसव कराते हैं। कई बार जच्चा बच्चा मौत को मुहाने में चले जाते हैं। बच्चे की मौत होने पर मामला निपटा लिया जाता और बच्चे की मौत होने पर अस्पतालों से दूर निर्जन स्थान में फेंक कर मामले को दवा दिया जाता है।
नवजात शिशुओं के शव मिलने का यह कोई पहला मामला नहीं है। इससे पूर्व भी मोहल्ला भुडिया में 3 साल पूर्व एक नाले में 3 नवजात शिशुओं के शव मिलने से स्वास्थ्य विभाग में हड़कम्प मच गया था। ऐसे कई मामले सामने आ चुके हैं जिनमें किसी प्रकार की कार्यवाही न होने से झोलाछाप डॉक्टरों के हौंसले बुलंद होते गए और नगर के कई ऐसे अस्पतालों में प्रसव से लेकर गर्भपात की भी सूचनाएं विभाग के पास है। उसके बाद भी विभाग कोई कार्यवाही नही करता है। ब्लड की जांच हो या अल्ट्रासाउंड हो उसमें किसी प्रकार का मानक नही है। यहां न कोई पैथालाजिस्ट है और न कोई रेडियोलॉजिस्ट है उसके बाबजूद कई जगह पर अल्ट्रासाउंड व खून की जांचों को खुलेआम किया जाता है।
झोलाछापों पर नहीं होती है कोई भी कार्रवाई……………….
इतना सबकुछ होते हुये भी स्वास्थ्य विभाग झोलाछाप डॉक्टरों पर किसी प्रकार की कोई कार्रवाई नहीं करती है। जिसके चलते क्षेत्र में झोलाछाप डॉक्टरों का काकस और बढ़ता जा रहा है। कहीं न कहीं इसी का नतीजा शहर में नवजात का शव एवं कलयुगी माँताए ममता को शर्मसार करती रहती हैं।
हरदोई-रिपोटर, (शिवम सिंह)।

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

क्या आपको लगता है कि बॉलीवुड ड्रग्स केस में और भी कई बड़े सितारों के नाम सामने आएंगे?

View Results

Loading ... Loading ...

आज का राशिफल देखें 

[avatar]