Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu
Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu

कालका-पिंजौर नगर परिषद व गांवों में पीने के पानी की किल्लत कब दूर करेगी कि सरकार,-प्रदीप चौधरी

कालका/पिंजौर, गर्मी के आते ही कालका-पिंजौर नगर परिषद व विधानसभा के अन्य गांवों में पेयजल संकट गहराने लगा है। पानी कि किल्लत के चलते चारो और  हाहाकार मचा हुआ है। लोगों में पानी जैसी बुनियादी जरूरतें पूरी न होने की वजह से रोष है। विधानसभा में कई जगह पानी की दिक्कत आ रही है। सबसे ज्यादा मोटरें खराब की दिक्कत आती है। करोड़ों रुपये खर्च कर पानी की बड़ी पाइप लाइन बिछाने के बाद भी नगर की पेयजल व्यवस्था पटरी पर नहीं आ पाई है, सरकार के बड़े-बड़े दावे धरातल पर फिसड्डी साबित हुए हैं। जनता बूंद- बूंद के लिए परेशान हो रही है। उक्त शब्द कालका विधायक प्रदीप चौधरी ने कहे। उन्होंने आज पानी की समस्या को लेकर इंजीनियर इन चीफ से मुलाकात की और पानी की समस्या के समाधान जो पत्र सौंपा।
इंजीनियर इन चीफ ने भरोसा दिया कि मोटरें रिजर्ब रखी जायेगी और पानी की समस्या का जल्द समाधान जिया जायेगा। उन्होने कहा कि हर बार गर्मीयों के मौसम में कालका पिंजौर नगर परिषद व गांवों में जल संकट की स्थिती बन जाती है और अक्सर देखा गया हे कि पानी की मोटर खराब होने के मामले सबसे ज्यादा सामने आते हैं, ऐसे में जिला हैड क्वार्टर में पानी की कम से कम एक दर्जन  अतिरिक्त  मोटरो का पहले से ही इंतजाम रखना चाहिए ताकि जब कभी कहीं मोटर खराब होती है तो लोगो के जल संकट का सामना करना न करना पड़े। ऐसे में मोटर खराब होने की सूरत में तुरंत दूसरी मोटर वहां पर लगाई जानी चाहिए।
उन्होने कहा कि हाल ही में खड़कूआं, इस्लामनगर, खोली वगैरह में भी मोटर खराब होने होने के बाद पेयजल संकट गहराया। गांवों में सबसे ज्यादा दिक्कत मोटर खराब होने पर आती है। मोटर बदलने में 3-4 दिन का वक्त लग जाता है।  जिसके कारण लोगो को अनेक परेशानियों का सामना करना पड़ा था। यदि मोटरें रिजर्ब होगी तो उसी वक्त बदली जा सकती है।
उन्होंने कहा कि एक तो क्षेत्र में पहले ही दिन में  केवल एक बार 25 से 30 मीनट तक पानी की सप्लाई छोड़ी जाती है। उसमें भी पानी का प्रैशर-लो रहता है। लोग जैसे-तैसे पानी का टैंकर मंगवाने से अपना काम चला रहे हैं।  उन्होने कहा कि विभाग के अधिकारी भी क्या कर सकते है जब सरकार ही उनको जरूरत का सामान दिलाने में असमर्थ है। चौधरी ने कहा कि उन्होने विधानसभा में भी यह मुद्दा उठाया था कि कालका  विधानसभा में कम से कम 25  ट्यूबवेल नए लगवाए जाए ताकि पेयजल की किल्लत को खत्म किया जा सके। शहरों के अलावा गांवों में भी पानी की दिक्कतें आ रही है।

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

क्या आपको लगता है कि बॉलीवुड ड्रग्स केस में और भी कई बड़े सितारों के नाम सामने आएंगे?

View Results

Loading ... Loading ...

आज का राशिफल देखें 

[avatar]