Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu
Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu

एस्ट्राजेनेका ने दिल्ली में अपने ‘यंग हेल्थ प्रोग्राम’ का विस्तार किया; संगम विहार और दक्षिणपुरी के समुदायों में 3 स्वास्थ्य सूचना केंद्र खोले

नई दिल्ली, 30अप्रैल 2022 (यू.टी.एन.)। एस्ट्राजेनेका इंडिया, जो एक विज्ञान-आधारित वाली बायोफार्मास्यूटिकल कंपनी है, ने लाखों बच्चों और युवाओं के जीवन को बेहतर बनाने हेतु प्रयासरत गैर-सरकारी संगठन, प्लान इंडिया के साथ मिलकर आज संगम विहार और दक्षिण पुरी के समुदायों में दिल्ली में 3 स्वास्थ्य सूचना केंद्र (एचआईसी) खोलकर अपनी प्रमुख सीएसआर पहल, यंग हेल्थ प्रोग्राम (एचआईसी) के विस्तार की घोषणा की। इंडिया हैबिटेट सेंटर में आयोजित इस कार्यक्रम में स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय, युवा मामले और खेल मंत्रालय, परिवार कल्याण निदेशालय, एनसीडी सेल, एमसीडी नॉर्थ के वरिष्ठ गणमान्य व्यक्तियों, कई अल्प – संसाधन समुदायों, प्लान इंडिया और एस्ट्राजेनेका इंडिया के लाभार्थियों ने भाग लिया।
‘यंग हेल्थ प्रोग्राम’ का उद्देश्य 10 -24 वर्ष की आयु के युवाओं के बीच विशेष रूप से व्यवहार परिवर्तन लाने के लिए एक केंद्रित दृष्टिकोण के साथ स्वास्थ्य प्रणालियों पर असंक्रामक रोगों के बढ़ते बोझ को कम करना है। विस्तार कार्यक्रम में उपस्थित, डॉ जोया अली रिजवी, उपायुक्त, एमओएचएफडब्ल्यू, भारत सरकार ने कहा, “एनसीडी पर अधिक ध्यान केंद्रित करने का यह उपयुक्त समय है क्योंकि यह एक गंभीर वास्तविकता है कि भारत पर एनसीडी का बोझ लंबे समय तक चलने वाला है क्योंकि एनसीडी से पीड़ित 65% से अधिक व्यक्ति सबसे अधिक उत्पादक जीवन आयु समूहों, यानी 26 -59 वर्ष के बीच के हैं। सामुदायिक स्तर पर की गई वाईएचपी (YHP) जैसी स्वास्थ्य देखभाल पहल ने इस प्रवृत्ति को रोकने और लोगों को स्वास्थ्य सेवा के लिए समान पहुंच प्रदान करने में महत्वपूर्ण रूप से योगदान दिया है।”
इस घोषणा के साथ पिछले एक दशक में दिल्ली के बवाना, होलम्बिकालन और बदरपुर समुदायों में कार्यक्रम के सकारात्मक प्रभावों की नाट्य प्रस्तुति भी हुई। जमीनी समुदायों के लगभग 15 लाभार्थियों, समकक्ष शिक्षकों और युवाओं के एक समूह ने एक एंगेजमेंट उपकरण बनाया जिसका उपयोग कारण पर ध्यान आकर्षित करने और जमीन पर जागरूकता बढ़ाने के लिए किया जाता है।
यह कार्यक्रम विशेष रूप से युवाओं को समकक्ष दबाव के माध्यम से तंबाकू, शराब के दुष्प्रभावों के बारे में जागरूकता पैदा करने पर केंद्रित है। लक्षित समुदायों के युवाओं को शामिल करते हुए, कार्यक्रम उन्हें समकक्ष शिक्षकों के रूप में विकसित करने के लिए एक समुदाय – आधारित दृष्टिकोण अपनाता है जो बदले में पूरे समुदाय को संदेश का विस्तार करने की जिम्मेदारी उठाता है। अब तक, वाईएचपी (YHP) सीधे स्वास्थ्य जानकारी के साथ 460,000 से अधिक युवाओं तक पहुंच चुका है और 7,800 से अधिक समकक्ष शिक्षकों को प्रशिक्षित किया है जिन्होंने समय – समय पर कई स्वास्थ्य संवर्धन गतिविधियों को वितरित किया है। वर्ष 2019 में, इस कार्यक्रम को दिल्ली के अलावा तमिलनाडु तक 2 एचआईसी के साथ विस्तारित किया गया था, इसके बाद कर्नाटक में इसका विस्तार बेंगलुरु में 3 एचआईसी के साथ किया गया था।
इस अवसर पर, एस्ट्राजेनेका इंडिया के प्रबंध निदेशक, गगनदीप सिंह ने कहा, “एक दशक पहले दिल्ली में वाईएचपी की शुरुआत के साथ भारत में हमारे वैश्विक समुदाय निवेश पहल के लिए सुविधाजनक बिंदु को चिह्नित किया गया, जो युवाओं को स्वस्थ विकल्प बनाने में सक्षम करने के लिए सशक्त और संवेदनशील बनाने पर केंद्रित था। अब दिल्ली, तमिलनाडु और कर्नाटक में लगभग 21 एचआईसी के साथ, हमारा उद्देश्य सटीक स्वास्थ्य जानकारी प्रदान करना और युवाओं के बीच स्वस्थ प्रथाओं को अपनाने को प्रोत्साहित करना है। हम देश में इस कार्यक्रम की एक मजबूत नींव रखने के लिए स्वास्थ्य अधिकारियों और हमारे सहयोगियों के बहुत आभारी हैं।”
प्लान इंडिया के कार्यकारी निदेशक, मोहम्मद आसिफ ने कहा,“ 2010 से, प्लान इंडिया की युवा स्वास्थ्य पहल किशोरों और युवाओं के बीच एस्ट्राजेनेका के समर्थन से स्वास्थ्य व्यवहार में सुधार कर रही है। एनसीडी रोकथाम में हमारे प्रयास आरकेएसके जैसी सरकारी पहलों के साथ काम करने में सक्षम होने के लिए एक महत्वपूर्ण चरण में पहुंच गए हैं, और अब हम 164,000 किशोरों और युवाओं तक पहुंचने के लिए संगम विहार और दक्षिणपुरी में विस्तार कर रहे हैं। दिल्ली में उच्च जोखिम वाले क्षेत्रों में महत्वपूर्ण सुधार देखने के बाद, नए क्षेत्रों तक पहुंचकर एनसीडी से जुड़े जोखिम व्यवहार जैसे तंबाकू सेवन, शराब का अपप्रयोग, खराब खान-पान आदतें और निष्क्रिय जीवन शैली के उच्च प्रसार का मुकाबला करने के लिए एक और पहल है।”
वाईएचपी का उद्देश्य युवाओं में अस्वास्थ्यकर व्यवहार को कम करना है ताकि वयस्कों के रूप में उनके स्वास्थ्य परिणामों में सुधार हो सके और स्वास्थ्य प्रणालियों पर एनसीडी के बढ़ते बोझ से निपटने में मदद मिल सके। विश्व स्तर पर अब तक, वाईएचपी दुनिया भर के 30 से अधिक देशों में 8 मिलियन से अधिक युवाओं तक पहुंच गया है। 2020 में, एस्ट्राजेनेका ने 5 वर्षों के लिए वाईएचपी को नवीनीकृत करने और नए व महत्वाकांक्षी लक्ष्यों को निर्धारित करने के लिए $35 मिलियन की वैश्विक प्रतिबद्धता की। वर्ष 2021 से 2025 तक, वाईएचपी का लक्ष्य दुनिया भर के देशों में स्वास्थ्य जानकारी के साथ 10 मिलियन से अधिक युवाओं तक पहुंचना है।
बहुआयामी प्रभाव डालने की दिशा में, एस्ट्राजेनेका वाईएचपी को ‘न्यू नॉर्मल सेम कैंसर’ और ‘गंगा गोदावरी इनिशिएटिव’ के साथ पूरक बना रहा है जो एम्बेसडर्स और इंडियन कैंसर सोसाइटी और बनारस हिंदू विश्वविद्यालय जैसे भागीदारों की मदद से कैंसर पर बड़े पैमाने पर जागरूकता पैदा करने पर केंद्रित है। इन पहलों के तहत, देश के दूरदराज के क्षेत्रों में कई कैंसर स्क्रीनिंग शिविर आयोजित किए जाते हैं जहां कई सुविधाएं उपलब्ध नहीं हैं।

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

क्या आपको लगता है कि बॉलीवुड ड्रग्स केस में और भी कई बड़े सितारों के नाम सामने आएंगे?

View Results

Loading ... Loading ...

आज का राशिफल देखें 

[avatar]