Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu
Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu

पत्रकारो पर मुकदमा दर्ज करके सलाखो के पीछे पंहुचाने तथा डरा धमका कर कलम की ताकत को छीनने की किसकी साजिश

मथुरा,12 अप्रैल 2022 (यू.टी.एन.)। हमारे देश मेें सच दिखाने सच बोलने निष्पक्ष लिखने व अपराध- भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने वाले पत्रकारो के साथ सौतेला व्यवहार क्यों किया जा रहा है ये सवाल देश के हर एक नागरिक से है। पत्रकार एक आईना होता है अपने लेख अपने खबरो के माध्यम से आईना की तरह सच्चाई दिखाने का प्रयास करता है देखने मेें पत्रकार अपने कलम की ताकत से आईना की तरह खूबसूरत भी होता है हम पत्रकार की हाइट प्रशनल्टी चेहरे की खूबसूरती की बात नही कर रहे हैं हम पत्रकारो के चरित्र व सोच की बात कर रहे हैं। पत्रकार को लाख कोशिश करके कोई डरा ले धमका ले खरीदने की कोशिश कर ले लेकिन जो सच्चा पत्रकार ही होगा उस पर कोई असर नही पड़ेगा वो देश हित समाज कल्याण के लिए कार्य करता रहेगा। बदलते वक्त मेें कुछ हमारे अपने पत्रकार भाई बहन भी आपस मेें एक दूसरे को प्रिंट मीडिया इलेक्ट्रॉनिक मीडिया सोशल मीडिया का हवाला देकर बंट गये हैं .
और इनको बांटने के लिए कुछ अराजक तत्व ने साजिश रच कर पत्रकारिता के क्षेत्र मेें दीमक बनने का काम किया हैं जो कहीं न कही अपने मकसद मेें कामयाब हो रहे हैं।इसी कारण वंश आज देश के निष्पक्ष लिखने वाले निर्भीक पत्रकार पर अत्याचार हो रहा है फर्जी मुकदमा दर्ज किया जा रहा है धमकी दी जा रही है कैमरे तोड़े जा रहे हैं आईडी छीनी जा रही है जनपद मथुरा में पिछले कुछ सालों में जनपद के पत्रकारों के खिलाफ आधा दर्जन से अधिक मुकदमे दर्ज हुए हैं तथा एक मुकदमे में तो उच्च न्यायालय इलाहाबाद हाई कोर्ट ने हस्तक्षेप कर पत्रकार को राहत दी है पत्रकारो को कवरेज के दौरान काफी दिक्कतो का सामना करना पड़ रहा है हमले का शिकार हो रहे हैं।
जो देश के लिए अच्छा संदेश नही है। हम बात करें बलिया के पत्रकारों की तो आज शायद देश का हर एक नागरिक तक पंहुच चुका होगा हमें विस्तार से बताने की जरूरत नही पड़ेगी। हम बात करें मध्यप्रदेश के पत्रकारो की तो मध्यप्रदेश पुलिस जिस तरह पत्रकारो के कपड़े उतरवा कर शर्मशार किये हैं इससे जायदा शर्मनाक और तस्वीर नही हो सकती।इससे पहले भी हमारे पत्रकार बंधुओ के साथ ऐसी तमाम घटनाये घट चुकी हैं। और हम लोग तह तक ना जाकर उल्टे पत्रकारो के खिलाफ खबर चला कर शासन-प्रशासन का मदद करते हैं जिनको नाजायज सजा काटनी पड़ी है। आज यदि हम पत्रकार एक होकर अपनी कलम की गरिमा बचाने के लिए ताकतवर नही बनते तो आने वाले समय मेें बारी बारी से सभी निष्पक्ष पत्रकारो के साथ ऐसा ही व्यवहार हो सकता है फिर न तो कोई सच लिखने की हिम्मत बना पायेगा न सच बोलने की क्षमता जुटा पायेगा न ही निष्पक्ष खबरो का प्रसारण कर पायेगा सिर्फ वही पत्रकार बचेगा जो सिस्टम का एक हिस्सा होगा। और धीरे-धीरे क्रिमिनल गैंगस्टर अपराधी भ्रष्टाचारी देश पर राज करेगें और निष्पक्ष लिखने वाले निर्भीक पत्रकार विलुप्त हो जायेगें। अब फैसला आपको करना है कि अपनी जिम्मेदारी निभा कर देशवासियो के हित के लिए निष्पक्ष निर्भीक पत्रकारो को बचाना है या फिर देश मेें अपराध भ्रष्टाचार की जड़ मजबूत बनाना है।
यदि आप सच लिखने वाले सच बोलने वाले पत्रकार व पत्रकार का समर्थन करने वाले देश के नागरिक सच का साथ देना चाहते हो तो हम मीडिया के पत्रकारो के लिए लड़ने के लिए आगे आना चाहते हैं समाज की सच्चाई की बात की जाए तो सभी देश के नागरिकों को सच्चाई बखूबी मालूम है परंतु अपना स्वार्थ सिद्ध करने के लिए बहुत से व्यक्ति जो नहीं करना चाहिए था  आजाद व स्वतंत्र है तथा यहां का हर नागरिक स्वतंत्र है कहीं ना कहीं ऐसा प्रतीत होता है कि पत्रकारों के खिलाफ जो भी मुकदमा दर्ज होता है उसकी प्राथमिक की जांच सही ढंग से नहीं होती है यह मेरे निजी विचार हैं
वी पी एस खुराना पत्रकार उत्तर प्रदेश पुलिस डाटाबेस में पंजीकृत आर टी आई कार्य कर्ता जनपद मथुरा |

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

क्या आपको लगता है कि बॉलीवुड ड्रग्स केस में और भी कई बड़े सितारों के नाम सामने आएंगे?

View Results

Loading ... Loading ...

आज का राशिफल देखें 

[avatar]