Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu
Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu

सेहत सबसे बड़ा धन है, इसलिए इसे कमाना और बचाना जरूरी हैं

मथुरा, 09 अप्रैल 2022 (यू.टी.एन.)। मथुरा राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, लखनऊ द्वारा प्रेषित माह अप्रैल 2022 के प्लान ऑफ एक्शन में दिये गये दिशानिर्देशों के अनुपालन में माननीय जनपद न्यायाधीश / अध्यक्ष, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, मथुरा श्री राजीव भारती जी के निर्देशानुसार आज आज दिनांक 07.04.2022 दिन गुरुवार को एक विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन मुख्य चिकित्साधिकारी, मथुरा कार्यालय पर किया गया। इस विधिक साक्षरता शिविर की अध्यक्षता सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, मथुरा सुश्री सोनिका वर्मा द्वारा की गई। इस अवसर पर मुख्य चिकित्साधिकारी मथुरा डा० अजय कुमार वर्मा, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा० अशोक कुमार, डा० रोहिताश, डा० देवेन्द्र अग्रवाल, उपमुख्य चिकित्साधिकारी डा० गोपाल, डा० बी.डी. गौतम, मलेरिया अधिकारी डा० आर. के. सिंह, जिला शिक्षा एवं सूचना अधिकारी श्री जितेन्द्र सिंह, जिला मातृ स्वास्थ्य परामर्शदाता श्री मुकेश गौतम, जनपदीय सलाहकार डा० अनीता जोशी, जिला कार्यक्रम अधिकारी आदि उपस्थित रहे।
आयोजित विधिक साक्षरता शिविर में अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा० अशोक कुमार, डा० रोहिताश, जनपदीय सलाहकार डा० अनीता जोशी आदि वक्ताओं द्वारा अपने-अपने विचार व्यक्त करते हुए बताया गया कि स्वास्थ्य सबसे बड़ी धरोहर है। पैसा चला गया तो कोई बात नहीं पर एक बार स्वास्थ्य चला गया तो उसे बनाना सम्भव नहीं होता है। गर्भवती महिलाओं को आशा बहुओं के माध्यम से चिन्हित करके विशेष ध्यान दिया जाता है तथा अच्छे कुशल स्वास्थ्य कर्मचारियों और चिकित्सक की देखरेख में प्रसव कराया जाता है व स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी सुविधाओं से लाभान्वित किया जाता है। गर्भवती महिला को प्रसव से पहले पुष्टाहार व खान पान में क्या उचित और फायदेमंद रहता है के सम्बंध में अवगत कराया जाता है। पंचायती राज विभाग व स्वास्थ्य विभाग के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में मच्छरों की रोकथाम के लिए अभियान चलाया जा रहा है। नगर निगम और स्वास्थ्य विभाग के माध्यम से शहरी क्षेत्रों में हानिकारक लार्वा और मच्छरों की रोकथाम के लिए कार्य किए जा रहे हैं। आशा बहुओं और आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों के सहयोग से घर-घर जाकर बीमारियों की रोकथाम और उससे बचाव हेतु अभियान चलाया जा रहा है। चिकित्सकों द्वारा स्वास्थ्य से सम्बंधित जारी योजनाओं के सम्बंध में विस्तार से बताया गया।
विधिक साक्षरता शिविर की अध्यक्षता करते हुए सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, मथुरा सुश्री सोनिका वर्मा द्वारा बताया गया कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में 07 अप्रैल का दिन विश्व स्तर पर महत्वपूर्ण है। प्रत्येक वर्ष 07 अप्रैल को विश्व स्वास्थ्य दिवस मनाया जाता है। वर्ष 1948 में विश्व स्वास्थ्य संगठन की स्थापना की गई थी। मनाने की शुरूआत इसके दो साल बाद वर्ष 1950 में विश्व स्वास्थ्य दिवस को मनाने का निर्णय लिया गया। इस दिन को विश्व स्तर पर मनाने की पहल विश्व स्वास्थ्य संगठन ने की। ऐसे में स्वास्थ्य दिवस को मनाने की शुरुआत हुई। सुश्री वर्मा द्वारा बताया गया कि सेहत सबसे बड़ा धन है इसलिए इसे कमाना और बचाना जरूरी है। लोगों को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करना ही इस दिन को मनाने का मुख्य उद्देश्य है। सुखी रहने के लिए सकारात्मक सोच रखना व मानसिक तनाव से दूर रहना अतिआवश्यक है। अच्छे स्वास्थ्य के बिना संसार के सब सुख व्यर्थ है।
सुश्री वर्मा द्वारा बताया गया कि दुनिया भर के सभी देशों में समान स्वास्थ्य सुविधाओं को फैलाने के लिए लोगों को जागरूक करना, स्वास्थ्य सम्बंधी मामलों से जुड़े मिथकों को दूर करना और वैश्विक स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याओं पर विचार करना और उन विचारों पर काम करना स्वास्थ्य दिवस का उद्देश्य है। इस दिन स्वास्थ्य सेवाओं, सुविधाओं और देखभाल सम्बंधी विषयों पर जागरूकता अभियान चलाया जाता है। कार्यक्रम के अंत में मुख्य चिकित्साधिकारी मथुरा डा० अजय कुमार वर्मा द्वारा उपस्थित सभी अतिथियों का आभार व्यक्त किया गया।
मथुरा- रिपोटर,( पीयूष पुरोहित ) |

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

क्या आपको लगता है कि बॉलीवुड ड्रग्स केस में और भी कई बड़े सितारों के नाम सामने आएंगे?

View Results

Loading ... Loading ...

आज का राशिफल देखें 

[avatar]