Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu
Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu

छाता के नरी सेंमरी – हुई चमत्कारिक आरती, भक्तों का उमड़ा सैलाब

मथुरा,06 अप्रैल 2022 (यू.टी.एन.)। मथुरा जिले की कोतवाली छाता के गांव नरी-सेंमरी में सोमवार देरशाम तीज की चमत्कारिक आरतियों की झलक पाने के लिए भक्तों का सैलाब उमड़ पड़ा। तीज के दिन भारी तादाद में मौजूद श्रद्धालुओं ने जय माता दी के जयकारों के साथ आरती करते हुए मां के भवन को गुंजायमान कर दिया। भवन में मौजूद भक्तों ने भक्तिभाव के साथ मां नरी सेमरी देवी की पूजा-अर्चना कर अपने परिवार की सुखशांति की मनौतियां मांगी।
चैत्र मास के तीसरे नवरात्रों के अवसर पर नरी सेमरी मेले में सोमवार देरशाम करीब 7ः30 बजे मंदिर के सेवायतों की मौजूदगी में नरी सैमरी देवी मां की आरती प्रारंभ हुई। आरती शुरू होते ही समूचा मंदिर प्रांगण घंटा, घड़ियाल और शंख की आवाजों से गूंज उठा। चारों ओर मां के जयकारों की गूंज सुनाई देने लगी। भक्तों ने मां की आरतियां और लागुरियां तथा भेंट गाकर अपने आप को धन्य किया।

इससे पूर्व मंदिर प्रांगण से प्रथम आरती आगरा निवासी पूर्व विधान परिषद सदस्य अनुराग शुक्ला के पुत्र अनिरुद्ध शुक्ला, केशन बल्लभ ने की। इस आरती को देखने के लिए हजारों भक्तगण अपने-अपने स्थानों पर टकटकी लगाए बैठे थे। चमत्कारिक आरतियों के महत्व को जानने के लिए दर्शक उमड़ पड़े। बडे़-बडे़ दीपकों की तेज लौ के ऊपर सफेद चादर को रखा गया। चादर के आरपार दीपक लौ निकल गई, मगर चादर नहीं जली। इसके बाद ध्यानू भगत के तीन और परिजनों ने इसी तरह देवी मां की आरती की। बीरी सिंह जादौन, अशोक भार्गव, कुमार सिंह, किशनपाल, नत्थी सिंह, चरन सिंह, हरी, लोकेंद्र, विक्रम, नीरज, मनोज, विजेंद्र आदि मौजूद थे। वहीं भीड़ को नियंत्रित करने के लिए एसडीएम कमलेश गोयल एवं सीओ वरुण कुमार, छाता कोतवाली प्रभारी अशोक कुमार एवं मेला प्रभारी सब इंस्पेक्टर नीरज भाटी ने मय पुलिस बल के तैनात रहे।

ध्यानू भगत नगरकोट कांगड़ा से लाए थे देवी मां को

आगरा निवासी ध्यानू भगत नगरकोट कांगड़ा (हिमाचल प्रदेश) वाली देवी मां के परम भक्त थे। मां की पूरी कृपा थी। ध्यानू भगत की सेवा से मां ने प्रसन्न होकर एक दिन वरदान मांगने को कहा। इस पर ध्यानू ने देवी मां से आगरा चलने का वर मांगा। देवी मां ने भक्त ध्यानू के सामने एक शर्त रख दी कि रास्ते में तू जहां भी पीछे मुड़कर देखेगा तो मैं वहीं अंर्तध्यान हो जाऊंगी। शर्त के बाद देवी मां भक्त के साथ आगरा के लिए चल पड़ीं। रास्ते में छाता के सेंमरी गांव के निकट भक्त को पीछे देवी मां के आने पर कुछ शक हुआ तो मुड़ कर देख लिया। बस देवी मां वहीं अंर्तध्यान हो गईं। सेंमरी की झाड़ियों में मां का विग्रह मिला, तभी से यहां पूजा हो रही है तथा ध्यानू के वंशज यही आकर पूजा-अर्चना करते हैं।
रिपोर्टर / मथुरा, (अबेद अली) |

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

क्या आपको लगता है कि बॉलीवुड ड्रग्स केस में और भी कई बड़े सितारों के नाम सामने आएंगे?

View Results

Loading ... Loading ...

आज का राशिफल देखें 

[avatar]